Wednesday, April 18, 2012

एक दिन आएगा कि कोई शक्स हमारा होगा....

एक दिन आएगा कि कोई शक्स हमारा होगा
किसी की आँखों मे मोहब्बत का सितारा होगा,

कोई जहाँ मेरे लिए मोती भरी सीपियाँ चुनता होगा,
वो किसी और दुनिया का किनारा होगा,


काम मुश्किल है मगर जीत ही लूगाँ किसी दिल को,
मेरे खुदा का अगर ज़रा भी सहारा होगा,


किसी के होने पर मेरी साँसे चलेगीं,
कोई तो होगा जिसके बिना ना मेरा गुज़ारा होगा,


देखो ये अचानक ऊजाला हो चला,
दिल कहता है कि शायद किसी ने धीमे से मेरा नाम पुकारा होगा,


और यहाँ देखो पानी मे चलता एक अन्जान साया,
शायद किसी ने दूसरे "साहिल" पर अपना पैर उतारा होगा,

अब तो बस उसी किसी एक का इन्तज़ार है,
किसी और का ख्याल ना दिल को ग़वारा होगा

कौन रो रहा है रात के सन्नाटे में,
शायद मेरे जैसा तन्हाई का कोई मारा होगा,

ऐ ज़िन्दगी! अब के ना शामिल करना मेरा नाम
ग़र ये खेल ही दोबारा होगा....

Sunday, April 15, 2012

वन्दे मातरम् ....

वन्दे मातरम्
सुजलां सुफलां मलयजशीतलाम्
शस्यशामलां मातरम् ।
शुभ्रज्योत्स्नापुलकितयामिनीं
फुल्लकुसुमितद्रुमदलशोभिनीं
सुहासिनीं सुमधुर भाषिणीं
सुखदां वरदां मातरम् ।। १ ।। वन्दे मातरम् ।

कोटि-कोटि-कण्ठ-कल-कल-निनाद-कराले
कोटि-कोटि-भुजैर्धृत-खरकरवाले,
अबला केन मा एत बले ।
बहुबलधारिणीं नमामि तारिणीं
रिपुदलवारिणीं मातरम् ।। २ ।। वन्दे मातरम् ।

तुमि विद्या, तुमि धर्म
तुमि हृदि, तुमि मर्म
त्वं हि प्राणा: शरीरे
बाहुते तुमि मा शक्ति,
हृदये तुमि मा भक्ति,
तोमारई प्रतिमा गडि
मन्दिरे-मन्दिरे मातरम् ।। ३ ।। वन्दे मातरम् ।

त्वं हि दुर्गा दशप्रहरणधारिणी
कमला कमलदलविहारिणी
वाणी विद्यादायिनी, नमामि त्वाम्
नमामि कमलां अमलां अतुलां
सुजलां सुफलां मातरम् ।। ४ ।। वन्दे मातरम् ।

श्यामलां सरलां सुस्मितां भूषितां
धरणीं भरणीं मातरम् ।। ५ ।। वन्दे मातरम् ।।

Monday, April 30, 2007

देखना एक दिन … …

देखना एक दिन, तुम्हारे दिन लद जायेंगे
और आक्रोश भरे पँजे, तुम्हारे चेहरे से
सारे मुखौटे उतार फेकेंगे
और तुम्हारा असली चेहरा
सबके सामने आ जाएगा

फिर ना तुम होगे. ना तुम्हारे वादे
इतना खा गए, इतना खा गए कि
भैंसों के लिए चारा भी ना छोड़ा
और अब पूछते हो छप्पन भोग कैसे लगे
अरे तुम्हारे फेके हुए जूठे पत्तल ही मिल जाते
तो हम वैसे ही तर जाते

कहते है बदलता है जमाना अक्सर
यहाँ अक्सर के इन्तजार मे
हम बद से बदतर हो गये
यहाँ कौंवों ने किया सदा उत्पात
और कोयल बेचारी सूली चढ़ी

हम अक्सर दूसरों को दोष देते हैं
कभी अपने बारे में नहीं सोचते

चलचित्र पर समाचार आते ही
समूचा भारत उस समाचार वाचक
आदर्श भारतीय ललना को देख
लहालोट हो जाता है और सुर में गाता है
मिले दिल मेरा तुम्हारा तो संगम बने हमारा

उधर एक पार्टी के नेता जी
दूसरी पार्टी को न्योता देते हैं
मिले दल मेरा तुम्हारा तो दलदल बने न्यारा
जिस देश के नेता ऐसे और जनता रंगीली हो
उस देश का यारों क्या कहना

Thursday, April 12, 2007

मेरी बरखा ……

शायद ही मेरे मन से “ वो ” विस्म्रित हो…
हाँ, मैं अपनी “ बरखा ” की बात कर रहा हू

दिल्ली में बारिश ने बरसों पुराना आंकड़ा बदला था
उसी दिन की ही तो बात है, जब वो मिली थी
जी हाँ… मेरी "बरखा"

बारिश से बचने के लिए
मैने अपनी मोटरसाईकिल रोकी
और उस विशाल पेड़ की ओट मे चला गया

अनायास ही मेरी नजर उस पर पड़ी
एक पल के लिये तो मैं स्तब्ध रह गया
किन्तु जब मेरी नजर उसके चेहरे पर पड़ी
तो मैं जैसे ठगा सा महसूस कर रहा था
मेरी नजर उसके चेहरे से हटाए नहीं हट रही थी

बारिश थमने का नाम ही नही ले रही थी
जैसे ही मैं कुछ आगे बढ़ने की कोशिश की
उसके गीले बदन को ढकना चाहा
वो पीछे हो गई, जैसे वो इनकार कर रही हो
जाने क्यों फ़िर मैं भी रुक गया,
बारिश के थमने के इन्तजार में
अनायाश उस से दूर होने की आशंका

बारिश रुकी…
वहाँ से निकलने से पहले
एक बार फिर मैने उसकी तरफ देखा
उसकी आखों में जैसे कुछ अहसास थे
मै उसकी तरफ धीरे से बढा
उसके सिर पर हाथ फेर के मैं चल दिया

जैसे ही मैं वहां से चला
उसको अपने पीछे आते देखा
मेरे बुलाने पर वो मेरे साथ हो चली
ढेर सारी खुशियों के साथ मैं घर आया

घर आते ही माँ ने पूछा
ये कौन है, ये कहाँ मिली
मैने माँ को समझाया
और उसके लिये गर्म दूध मंगाया

उसकी वो भूरी भूरी आँखें
मुझे आज भी याद हैं
जब वो दूध पीते समय मुझे देख रही थी
मैने प्यार से उसके सिर पर हाथ फेरा
और बस कुछ पल, बस कुछ पल
वो मेरे साथ वही बैठी रही
फिर ना जाने कहाँ चली गई
और तभी मैने उसका नाम “बरखा” रखा
क्योंकि मुझे वो बरिश में ही मिली थी

किन्तु, वो मेरी कहाँ…
वो तो किसी और की थी
मैं आज भी उसे याद करता हूँ
मेरी “बरखा”…… मेरी म्याऊँ……

Wednesday, April 11, 2007

अकेले चलो तुम्………

न हो साथ कोई अकेले चलो तुम
सफलता तुम्हारे कदम चूम लेगी

बिना पंख वाले उड़े जो गगन में
न संबन्ध उनके गगन से रहे हैं
अगर उड़ सको तो पखेरू बनो तुम
सफलता तुम्हारे कदम चूम लेगी

वही बीज पनपा पनपना जिसे था
घुना क्या किसी के उगाए उगा है
अगर उग सको तो उगो सूर्य से तुम
सफलता तुम्हारे कदम चूम लेगी

रचनाकार … (अज्ञात)

(जब भी कभी मन मे अवसाद / असफलता मह्सूस हो… ये पंक्तियाँ मुझे हमेशा से प्रेरित कारती रही हैं, और मुझे आगे बढ़ने में मदद करती रहती हैं।)

Sunday, March 25, 2007

भारत को फिर से पटेल चाहिए………

दिल टूट्ता है उसे मेल चाहिए
सूनी सी पटरियां हैं रेल चाहिए
देशद्रोहियों के लिए जेल चाहिए
भारत को फ़िर से पटेल चाहिए

खूँनी आज दरिया चनाब हुआ है
गेहुँ पिटा शासक गुलाब हुआ है
फाइलों में बन्द ईन्कलाब हुआ है
गधा आज देख लो नवाब हुआ है
कुछ मठाधीश व महंत हो गये
डाकू लुटेरे आज संत हो गये
झोपडी को नही कोकटेल चाहिए
भारत को फिर से पटेल चाहिए

जवानों का खून आज पानी हुआ है
फैशन का नाम ही जवानी हुआ है
संविधान काटा फाड़ा चिट्ठा हो गया
झूठा है जो आज खूब सच्चा हो गया
गाय और सूअर पे दंगा हो गया
नेता अभिनेता सा लफंगा हो गया
ऊंट की तो नाक मे नकेल चाहिए
भारत को फिर से पटेल चाहिए